Physical Address

304 North Cardinal St.
Dorchester Center, MA 02124

UAE: अब ओवर-स्टे करने वाले यात्रियों का वीजा हो सकता है बैन

खलीज टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक UAE के ट्रेवल एजेंट्स ऐसे यात्रियों, जो अपने वीजा की लिमिट ख़तम हो जाने के बाद भी UAE में रह रहे हैं, के फरार होने के केसेस दर्ज करवा रहे हैं। 

एजेंट्स के मुताबिक, अगर कोई टूरिस्ट अपने वीजा के एक्सपायर हो जाने के 5 दिनों के अंदर UAE नहीं छोड़ता है तो उन्हें देश में और अन्य Gulf Cooperation Council (GCC) देशों में जाने से बैन कर दिया जायेगा। 

ट्रेवल एजेंसियां जारी कर रही हैं सर्कुलर्स

कई सारे ट्रैवेलर्स ऐसे यात्रियों के लिए सर्कुलर्स जारी कर रहे हैं जो ऑनलाइन मीडिया में काफी वायरल हो रहे हैं। इन सर्कुलर्स में ऐसे यात्रियों के लिए अपने वीजा की लिमिट से अधिक दिनों तक देश में रहने के नतीजों की चेतावनी जारी की गई है। 

ऐसा ही एक सर्कुलर कहता है कि “ऐसे यात्रिओं को तुरंत ‘फरार’ घोषित कर दिया जायेगा जो अपने वीजा एक्सपायरी से एक दिन भी अधिक देश में रहता है।” 

ट्रेवल एजेंसीज ऐसे ट्रेवलर्स से अनुरोध करती है कि या तो वे अपने वीजा की लिमिट बढ़वा लें या फिर UAE से बाहर छोड़ दें। 

इसी क्रम में एक दूसरा सर्कुलर ऐसे यात्रियों को फाइनल रिमाइंडर देता है कि जो अपने वीजा की लिमिट से 5 दिनों से अधिक UAE में ठहरे हैं, उन्हें UAE में तथा अन्य GCC देशों में एंट्री नहीं दी जाएगी। 

हालाँकि, ये सभी सर्कुलर्स प्राइवेट एजेंट्स के द्वारा जारी किये गए हैं, न कि किसी UAE की गवर्नमेन्ट एजेंसी द्वारा। 

ट्रेवल एजेंट्स क्यों दर्ज कर रहे हैं ‘फरार’ होने के केसेज 

लिबिन वर्गीस, रूह टूरिज्म के ऑपरेशनल डायरेक्टर, का कहना है कि इन शिकायतों के दर्ज करने के पीछे का कारण यह कि 30 से 60 दिनों विजिट वीजा वाले यात्रियों को ट्रेवल एजेंसीज स्पोंसर करती हैं। 

ऐसे में अगर कोई यात्री अपने वीजा के एक्सपायर होने के बाद भी देश में रहता है तो इसमें ट्रेवल एजेंसीज को नुकसान और खतरा हो सकता है। 

और फिर इसके बाद ऐसे मामलों में वीजा की लिमिट से अधिक रहने की पेनल्टी का फाइन इन ट्रेवल एजेंसीज को भरना पड़ सकता है। 

क्या है ओवर-स्टे करने की पेनल्टी?

ओवर-स्टे करने की पेनल्टी सिर्फ फाइन तक ही सिमित नहीं है। बल्कि ऐसे में सरकार उनके ट्रेवल पोर्टल्स को भी ब्लॉक कर सकती है। और इस तरह उन्हें अपने बिज़नेस से हाथ धोना पड़ सकता है। 

और साथ ही में, जो टूरिस्ट ओवर-स्टे करते हैं, उन्हें UAE से बाहर जाने के लिए पेनल्टी के साथ-साथ एक आउटपास फीस देने की जरुरत पड़ती है जो ट्रेवल एजेंसी के लिए काफी महंगा पड़ सकता है। 

इस तरह के खतरों से बचने के लिए ही ट्रेवल एजेंसीज को ऐसे टूरिस्ट्स के खिलाफ ‘फरार’ होने का केस दर्ज करने की इजाजत दी गई है। 

इस न्यूज़ को English में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

ट्रेवल एवं टूरिज्म इंडस्ट्री के जुडी ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, इंस्टाग्राम और गूगल न्यूज़ पर हमें फॉलो करें और हमसे जुड़ें!

WhatsApp Group

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *